Mar 22, 2016

Tribal Headlines Feed 2016Mar22nd A

Times of India
RAIPUR: AAP leader and tribal rights activist Soni Sori's nephew Lingaram Kodopi has sought the President's intervention in alleged police atrocities ...

Deccan Chronicle
“Nothing has happened to reservation of Dalits and tribals in BJP-ruled ... law in India by giving women equal rights in many spheres like property.

Daily News & Analysis
Raising the issue of persons using names similar to tribals or adiviasis or fake certificates to avail benefits, the Eklavya Sanghatana, Maharashtra ...

BBC News

The 41-year-old tribal rights activist has been an outspoken critic of police violence towards tribespeople in the state, which is facing a Maoist insurgency.

Naya India

सागर- विगत दिनों नवीन प्रीमैट्रिक छात्रावास तिली गांव से आदिवासीछात्रा कमला गौड़ के हुये अपहरण की घटना के विरोध में तथा छात्रा के साथ घटित हुई घटना के लिए सीधे तौर पर उत्तरदायित्व सहा.आयुक्तआदिवासी विकास और नवीन प्रीमैट्रिक छात्रावास की अधीक्षिका पर अनु.जाति/जनजाति अत्याचार अधिनियम के तहत मामला दर्ज किये जाने तथा आदिम जाति कल्याण विभाग में व्याप्त अनियमिताओं और भ्रष्टाचार की मांग को लेकर कांग्रेसियों ने मप्र शासन के पूर्व मंत्री सुरेन्द्र चौधरी के नेतृत्व में सहायक आयुक्तआदिवासी विकास कार्यालय पर जमकर नारेबाजी कर विरोध प्रदर्शन किया।

Pradesh18 Hindi

डोय-शौरी चकला होते हुए ठाकुर गंगटी जाने वाली यह सड़क 15 वर्ष पहले आरईओ द्वारा बनाई गई थी. यह सड़क आदिवासीबाहुल्य लगभग एक दर्जन गांवों को जोड़ती है. रख रखाव के आभाव में आज सड़क पर बडे बडे बोल्डर या फिर गड्ढ़े ही नजर आते है. लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. जनप्रतिनिधियों से मिला बस आश्वासन. शौरीचकला के दुखन कुजूर कहते हैं कि स्थानीय जनप्रतिनिधि को लोगों ने कई बार समस्या से अवगत कराया. लेकिन आश्वासन के सिवाय कुछ भी नहीं मिला. उधर संबंधित विभाग या पंचायत समिति के सदस्य हरिनंदन उरांव से इस बाबत जब पूछा गया तो कुछ भी बोलने के लिए इंकार कर दिया.

प्रातःकाल


meeting डूंगरपुर। जिले में राजस्थान ग्रामीण आजीविका विकास परिषद् के माध्यम से शैक्षिक विकास महिला सशक्तिकरण के लिए जिला कलक्टर इंद्रजीत सिंह द्वारा पहल की जा रही है। सब कुछ योजनानुसार हुआ तो बहुत जल्दआदिवासी अंचल की महिलाएं आईआईटी के इंजीनियरों की भांति बाजार में 600 से 700 रुपयों में मिलने वाले सोलर लेंप को बनाकर मात्र 120 रुपयों में बिक्री करते हुए आजीविका अर्जित करेंगी। इसी क्रम में जिले के महिला स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं को आईआईटी मुम्बई के प्रोफेसरों द्वारा सोलर लेंप बनाने के प्रशिक्षण द्वारा आजीविका अर्जन की गतिविधि प्रारंभ करने के ...

No comments:

Post a Comment