May 3, 2016

Tribal Headlines Feed 2016May5th A

Times of India
Visakhapatnam: A training programme on tribal rights for schedule tribe (ST) volunteers was conducted at the Visakhapatnam District Bar ...

The Indian Express
jual oram, village forests, revenue forests, tribal minister, tribalminister oram, Tribal Minister Jual Oram said that out of a total 22,06,011 ...

ucanews
A community of Gond Christians in India's Chhattisgarh state were forced to flee their villagers after their Hindu neighbors allegedly threatened ...

Youth Ki Awaaz
In 2012, Odisha barred access to tribal areas for foreign tourists after ... Tourism in India is a booming industry as it accounts for an average of ...

Mainstream
India declared itself democratic in 1947, till such time India was ruled by the British and the tribal people of India were mostly neglected and ...

Youth Ki Awaaz
In 2012, Odisha barred access to tribal areas for foreign tourists after ... Tourism in India is a booming industry as it accounts for an average of ...

Times of India
New Delhi, April 23 (IANS) Tribal leaders from Manipur's hills insisted on ... Give us equal treatment like other tribal people in the rest ofIndia."

Times of India
Nashik: The Maharashtra State Tribal Development Board has come out with the clarification that no computer data is lost in the electrical snag ...

Times of India
Nashik: The Maharashtra State Tribal Development Board has come out with the clarification that no computer data is lost in the electrical snag ...

COUNTERVIEW
Indian states "neglecting" tribal interests are also highly rated for Ease of Doing Business by Modi, World Bank ...

Times of India-
Berhampur: Police on Friday arrested five persons for allegedly trafficking four tribal girls, two among them minors, from Belaghara in ...

Times of India-
Ranchi: The cabinet on Thursday approved inclusion of triballanguages in the Jharkhand Public Service Commission (JPSC) and Staff ...

ठाणे : विवाह समारोह में नाबालिग आदिवासी लड़की से बलात्कार

एनडीटीवी खबर
 
ठाणे: ठाणे जिले में एक युवक ने 14 वर्षीय एक आदिवासी लड़की का एक विवाह समारोह में कथित बलात्कार किया। लड़की भी इस विवाह समारोह में शामिल होने आई थी। पुलिस ने आज बताया कि मोहिली गांव की लड़की 18 अप्रैल को निकटवर्ती गांव सोनटक्के में विवाह समारोह में शामिल होने गई थी। लड़की को कमरे से जबरन उठाकर ले गया उप-निरीक्षक शीतल बामने ने कहा कि विवाह समारोह के बाद वह विवाह आयोजन स्थल पर एक कमरे में सो रही थी। आरोपी लड़की को कमरे से जबरन उठाकर एक सुनसान जगह ले गया जहां उसने उसका कथित बलात्कार किया। आरोपी की पहचान इर्ंट भट्ठे में काम करने वाले मयूर माकने (19) के रूप में हुई ...

आदिवासी बच्चों को फ्री में दी जा रही है प्रतियोगी परीक्षा की ट्रेनिंग

दैनिक भास्कर
 
आदिवासी युवाओं को प्रतियोगी परीक्षा की ट्रेनिंग नि:शुल्क मिलेगी। जय आदिवासी युवा शक्ति ने नि:शुल्क कोचिंग की शुरुआत की। इसमें बैंक, रेलवे, पीएससी सहित सभी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कराई जाएगी। इसका संचालन समाज के सहयोग से होगा। संत रविदास चौक में टंटिया भील नि:शुल्क कोचिंग की शुरुआत रविवार से हुई। इसमें सभी तरह की प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी गई है। आदिवासी समाज के कमजोर एवं ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले बच्चों को ट्रेनिंग दी जाएगी। यह पहला मौका है जब समाज ने कमजोर तबके के लिए नि:शुल्क ट्रेनिंग की शुरुआत की। कोचिंग क्लास का सबसे ज्यादा ...

देश की ऊर्जा राजधानी से 50 हजार आदिवासी मजदूरों का पलायन

Patrika
 
सोनभद्र.भीषण धूप में वाराणसी शक्तिनगर मार्ग पर खड़े आदिवासियों का काफिला ट्रकों को देखते ही शोर मचाने लगता है,सड़क किनारे नंगे पेड़ों के नीचे बैठी इन आदिवासी परिवारों की महिलाएं और उनकी गोद में छिपे बच्चे उस अकाल कथा का हिस्सा है जिसमे सत्ता की बेहयाई साफ़ नजर आती है। देश की उर्जा राजधानी कहे जाने वाले उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले से अब तक लगभग 45 से 50 हजार आदिवासी अपने और अपने मवेशियों की प्राणरक्षा के लिए पशुओं के साथ पलायन कर गए हैं। गाँव के गाँव सूने पड़े हैं,हमेशा गुलजार रहने वाले हाट और बाजार खाली पड़े हैं।अन्न और जल के संकट ने यहाँ के आदिवासियों को ...

मुख्यमंत्री रमन सिंह अचानक पहुंचे आदिवासी बहुल ग्राम अलोरी

sabguru news (प्रेस विज्ञप्ति)
रायपुर। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह प्रदेश व्यापी लोक सुराज अभियान के दूसरे चरण में आज सवेरे राजधानी रायपुर से हेलीकॉप्टर द्वारा रवाना होकर सबसे पहले अचानक जशपुर जिले के ग्राम अलोरी (विकासखंड मनोरा) और उसके बाद वहां से सूरजपुर जिले में पहाड़ी के नीचे ग्राम जजावल (विकासखंड प्रतापपुर) पहुंचे। उन्होंने दोनों आदिवासी बहुल जिलों के इन गांवों में अमराइयों की छांव में सादगीपूर्ण ढंग से चौपाल लगाकर ग्रामीण से विभिन्न विषयों पर बातचीत की। मुख्यमंत्री को अचानक अपने बीच पाकर दोनों गांवों के लोगों में आश्चर्य मिश्रित खुशी देखी गई। मुख्यमंत्री ने जजावल के ग्रामीणों ...

नक्सलियों की धमकियों से डरे बिना एजुकेशन सिटी को दान की साढ़े 22 एकड़ जमीन

दैनिक भास्कर
 
गीदम ब्लाक के जावंगा और पनेड़ा गांव की 100 एकड़ से अधिक की भूमि पर बना एजुकेशन सिटी। रायपुर(छत्तीसगढ़). जावंगा के पूर्व सरपंच बोमड़ाराम कवासी ने पूर्वजों की संजोयी साढ़े 22 एकड़ भूमि को एजुकेशन हब के लिए दान कर एक अनूठी मिसाल पेश की। दान की गई जमीन की वर्तमान कीमत करीब साढ़े 22 करोड़ रुपए आंकी जा रही है। शासकीय प्रयोजन के लिए जमीन दान करना इतना अासान भी नहीं था। इसमें तमाम चुनौतियां सामने आई। कभी नक्सलियों का दबाव बना तो कभी अन्य लोगों ने दबाव बनाया। इसके बावजूद बोमड़ा ने हार नहीं मानी और भूमि दान कर दी। आदिवासी बच्चे पढ़ें इसलिए आगे आए... दुनिया में दिलाई ...

एमपी के आदिवासी छात्रों ने लहराया परचम, जेईई में हुआ चयन

Pradesh18 Hindi
 
रतलाम जिले के आदिवासी अंचल के विद्यार्थियों ने जेईई परीक्षा में सफलता प्राप्त की. क्षेत्र के पांच विद्यार्थी इस परीक्षा में चयनित हुए है. सहायक आयुक्तआदिवासी विकास प्रशांत आर्य ने बताया जिले के छात्र राहुल पिता शम्भुजी, हरिओम पिता बालचंद्र सिंघाड़, भरतलाल पिता मेहरजी, यश पिता महेन्द्रसिंह देवड़ा एवं प्रियंका पिता दलसिंह डोडियार ने जेईई परीक्षा में सफलता हासिल की है. प्रदेश१८ की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करे ...

आदिवासियों के कारण हम जिंदा हैं : रणेन्द्र

Inext Live
JAMSHEDPUR: को- ऑपरेटिव कॉलेज में आदिवासी विमर्श विषय पर संगोष्ठी का आयोजन शनिवार को ¨हदी डिपार्टमेंट की ओर से किया गया। मुख्य वक्ता प्रख्यात कथाकार रणेन्द्र कुमार ने कहा कि ग्लोबोलाइजेशन के इस दौर में अगर हम जिंदा है तो आदिवासियों के कारण ही हैं। आदिवासी प्रकृति प्रेमी होते हैं। इस कारण पहाड़ जंगल सुरक्षित हैं। आदिवासी समाज में आज भी वर्ण व्यवस्था जाति व्यवस्था नहीं है। इस समाज में निचले तबके का व्यक्ति ही पुजारी है। सारी सामाजिक व्यवस्था एक सिस्टम के तहत चलती है। इस कारण यह समाज पूरी तरह संगठित रहता है। कृषि सभ्यता से जुड़े लोग प्रकृति से जुड़े रहते ...

सांझी विरासत के तहत आदिवासी लोक रंग तथा होली पर आधारित थारू जनजाति के नृत्य का प्रस्तुतिकरण 29 30 अप्रैल को

UPNews360 (प्रेस विज्ञप्ति)
 
संस्कृति विभाग ||प्रदेश के संस्कृति विभाग द्वारा उत्तर मध्य क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र, इलाहाबाद के सहयोग से साझी विरासत सांस्कृतिक श्रंखला के अन्तर्गत आदिवासी कला पर आधारित ''आदिवासी लोक रंग'' का आयोजन आगामी 29 30 अपै्रल को खुला मंच (एम्फीथिएटर), डा0 राम मनोहर लोहिया पार्क, गोमती नगर में सांय :30 बजे किया जायेगा। यह जानकारी सचिव संस्कृति श्रीमती अनीता सी0 मेश्राम ने आज यहां दी। उन्होंने बताया कि 29 अप्रैल को मध्य प्रदेश के प्रख्यात कलाकारों द्वारा विभिन्न प्रकार के तीन कार्यक्रम प्रस्तुत किए जायेंगे। श्री लखनलाल भार्वे द्वारा गुदुम्ब बांज पर ...

आदिवासी सरपंच को टीआई के चालक ने पीटा - लेकिन क्यों

Patrika
 
पवई (पन्ना) थाने शिकायत लेकर आदिवासी सरपंच की टीआई से मुलाकात तो नहीं हो पाई। लेकिन परिसर में ही उनका निजी वाहन चालक उलझ गया और जमकर पिटाई कर दी। सरपंच के रूप में परिचय दिए जाने पर वह भड़क गया और लात घूंसों से पीटते हुए कपडे़ भी फाड़ दिए। बाद में उन्हीं फटे कपड़ों को पहने सरपंच ने एसडीएम से मिलकर शिकायत दर्ज कराई। फरियादी सरपंच के साथ मुल्जिम से भी बदतर सलूक होने के बाद भी आरोपी चालक के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई है। यह घटना एेसे वक्त पर हुई है जब सरकार ग्राम उदय से भारत उदय अभियान चला रही है। एसडीएम पवई से की गई शिकायत में ग्राम पंचायत बुधेड़ा सरपंच अर्जुन आदिवासी ने ...

इंदौर आदिवासी ने किया स्पर्धा पर कब्जा

Patrika
नीमच। दूधिया रोशनी में हुए फुटबॉल स्पर्धा के फाइनल में खेल प्रेमियों का सैलाब उमड़ गया। जहां सैंकड़ों की संख्या में उपस्थित फुटबॉल प्रेमी मैच का लुत्फ उठा रहे थे। वहीं वे उत्साहवर्धन करने में भी पीछे नहीं थे। फाइनल मुकाबला काफी देर तक चला। इसमें इंदौर आदिवासी ने जोरदार प्रदर्शन कर जीत हासिल की। फाइनल मुकबला डीएफए जबलपुर इंदौर आदिवासी के बीच खेला गया। मैच में दोनों टीमें पूरी ताकत से भिड़ी थी, मैच में बराबरी पर रही। इसके बाद एक्सट्रा समय दिया गया। लेकिन उसमें भी दोनों बराबरी पर रही। इसके बाद ट्रायब्रेकर में सडन डेथ से 5-4 से इंदौर आदिवासी ने जीत का सेहरा अपने सिर ...

#SECL ने तोड़ा देवालय, देवता हुए कुपित, अब बकरे के लिए भटक रहे आदिवासी

Patrika
आदिवासी बता रहे हैं कि देवास के टूटने के बाद देवता नाराज हो गए हैं और उनका कहर उनपर टूट रहा है। आदिवासी परिवार के सदस्य लगातार अलग-अलग बीमारियों की चपेट में रहे हैं। उनके समुदाय में कुछ अच्छा नहीं हो रहा है। इस मामले में जब उनसे चर्चा की गई तो उनका कहना था कि एसईसीएल को शुरुआत में ही मना किया गया था। गांव के बाहर बांस के झाड़ों के बीच देवता का निवास पीढिय़ों पहले उनके पुरखों ने करवाया था। एसईसीएल को कहा गया था कि उस स्थान को छोड़ दे और उसके आसपास खुदाई का कार्य कर ले पर वो लोग नहीं माने, हमलोग किसी कार्यक्रम में व्यस्त थे और इन लोगों ने रातों-रात इसे तोड़ दिया।

छत्तीसगढ़ में एक तरफ अमीरों की सेना है, दूसरी तरफ आदिवासी

Tehelka Hindi
 
कंपनियों की तरफ सरकार है, कंपनियों की तरफ सरकार की पुलिस है, कंपनियों की तरफ सरकार की अदालतें हैं और कंपनियों की तरफ मीडिया का एक बड़ा वर्ग है. इस युद्ध में दूसरी तरफ आम आदिवासी हैं. आदिवासी की तरफ गांधीवादी लोग भी हैं. वामपंथी लोग हैं. सही सोच वाले न्यायप्रिय लोग भीआदिवासियों की तरफ हैं. इत्तफाक से नक्सली भी आदिवासी की तरफ हैं. सरकार एक चालाक खेल खेलती है. सरकार कहती है कि चूंकि नक्सली भीआदिवासियों की तरफ हैं इसलिए सारे आदिवासी नक्सली हैं. सरकार और ज्यादा चालाकी से कहती है कि चूंकि गांधीवादी और वामपंथी भी आदिवासियों की तरफ हैं इसलिए वामपंथी और ...

वनांचलों में आदिवासियों को लू से बचाता है 'मड़ियापेज'

Pradesh18 Hindi
साव ने बताया कि चावल और कनकी के साथ रागी को उबालकर मड़ियापेज बनाया जाता है. पानी की तरह तरल बनाकर आदिवासी इसका इस्तेमाल गर्मियों में एनर्जी ड्रिंक के रूप में करते हैं. मड़ियापेज एक तरह से माड़ की तरह होता है. लू से आदिवासियों को सुरक्षा प्रदान करने में मड़ियापेज की उपयोगिता पर उन्होंने कहा कि लो-कैलोरी आहार होने के चलते रागी से बनने वाला मड़ियापेज धीरे-धीरे शरीर में ऊर्जा प्रदान करते रहता है. इसके साथ-साथ यह तरलपेय शरीर के लिए ठंडा भी होता है. साव ने बताया कि रागी खरीफ फसल है. इसके पौधे 120 दिनों में तैयार हो जाते हैं. इसमें काबोहाइड्रेड, फाइबर, प्रोटीन, कैल्शियम, ...

आदिवासी विद्यार्थी कर रहे गीता कंठस्थ

Patrika
 
बांसवाड़ा।जनजाति बाहुल्य बांसवाड़ा जिले में आदिवासी विद्यार्थी इन दिनों वेद, गीता रुद्री के ज्ञान में पारंगत हो रहे हंै। 10 से करीब 15 वर्ष की उम्र के जनजाति विद्यार्थी जब श्रीमद् भागवत गीता के पहले अध्याय के पहले श्लोक धर्मक्षेत्रे कुरुक्षेत्रे समवेता युयुत्सव:, मामका पाण्डवाश्चैव किमकुर्वत संजय... से संस्कृत में कंठस्थ उच्चारण शुरू करतेे हैं तो यह सिलसिला गीता के कई अध्यायों के उच्चारण के बाद थमता है। इस अभिनव सीख का माध्यम बांसवाड़ा जिले के भारत माता मंदिर रातीतलाई में संचालित महर्षि वाल्मीक वेद पाठशाला बनी है। जहां पिछले 9 माह से जनजाति विद्यार्थी ...

राजनीतिः बाघों की सुध और आदिवासी समाज

Jansatta
बाघ या शेर जैसे वन्यजीवों को बचाने की किसी भी योजना में उस आदिवासी समाज का जिक्र कहीं नहीं होता है जो मुख्य रूप से वनों पर ही निर्भर है। जबकि वन्यजीवों के बचाने के लिए उन्हें वनों से बाहर पुनर्स्थापित करने की बात हमेशा कही जाती है। अब हमें एक ऐसी योजना बनाने की जरूरत है जिसमें वनों पर निर्भर आदिवासी समाज वन्यजीव दोनों के बारे में सोचा जाए। इससे आदिवासी समाज वन्यजीवों को बचाने के लिए स्वयं आगे आएगा। अनेक जगहों पर संरक्षित क्षेत्रों में रह रहे आदिवासी संरक्षित क्षेत्रों से बाहर आने के लिए राजी हुए हंै, पर दुर्भाग्यपूर्ण यह है कि उन्हें उचित मुआवजा नहीं मिल ...

आदिवासी वृद्धा ने हाथ मिलाकर किया सीएम रमन सिंह का स्वागत

sabguru news (प्रेस विज्ञप्ति)
रायपुर। मुझे चावल, चना, मिट्टी का तेल आदि सब कुछ मिल रहा है, सिर्फ चाउंर वाले बाबा से मिलने की इच्छा थी, वह आज पूरी हो गई। पहाड़ियों से घिरे ग्राम बड़ेडोंगर में कुछ इन शब्दों के साथ वहां की वृद्ध आदिवासी महिला शूलमति ने मुख्यमंत्री से मुलाकात की और हाथ मिलाकर उनका आत्मीय स्वागत किया। प्रदेश के नक्सल प्रभावित कोण्डागांव जिले के इस गांव में लोक सुराज अभियान के दौरान मुख्यमंत्री शुक्रवार शाम हेलीकॉप्टर से पहुंचे थे। उनके आगमन के लिए शूलमति के घर के नजदीक हेलीपेड बनाया गया था, जहां कलेक्टर शिखा तिवारी सहित प्रशासनिक अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों की चहल-पहल ...

आदिवासी-मूलवासी विरोधी रघुवर सरकार

दैनिक जागरण
 
सारठ प्रखंड मुख्यालय में पूर्व विस अध्यक्ष शशांक शेखर भोक्ता ने वर्तमान सरकार की नीतियों की जमकर आलोचना की। साथ ही रघुवर सरकार को प्रदेश के मूलवासी और आदिवासियों का विरोधी करार दिया। प्रदर्शन में प्रखंड अध्यक्ष बसंत सिंह, इश्तियाक मिर्जा, अब्बार शेख, मणी राय, समीरुद्दीन मिर्जा, मुरारी शाह, रामकिशोर मंडल, हरि हेम्ब्रम, अभिमन्यु राय, सहदेव मंडल आदि शामिल हुए। सारवां प्रखंड मुख्यालय में प्रखंड अध्यक्ष विनोद वर्मा की अध्यक्षता में धरना दिया गया। इसमें प्रखंड सचिव मुरली पोद्दार ने वर्तमान सरकार के कार्यो और स्थानीय नीति की आलोचना की। मौके पर संगठन सचिव दिलीप ...

नियमों को दरकिनार कर गैर आदिवासी की हुई बहाली

प्रभात खबर
धरहरा : एक ओर जहां सरकार नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में आदिवासियों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए कल्याणकारी योजना चला रखी है. वहीं दूसरी ओर वन विभाग द्वारा पहाड़ जंगलों की सुरक्षा के लिए केयर टेकर बहाली में नियमों को ठेंगा दिखाया जा रहा है. आदिवासी बाहुल्य मथूरा, सतघरवा, सवैया, बंगलवा सहित कई अन्य पहाड़ वन की सुरक्षा के लिए केयर टेकर की बहाली निकाली गयी. जिसमें नियमानुसार आदिवासी युवाओं को लेना है. लेकिन यहां नियमों को दरकिनार करते हुए गैरआदिवासियों की नियुक्ति की गयी. आजिमगंज पंचायत के विरोजपुर, पोखरिया का रहने वाला बैजनाथ यादव जो ...

गोरिया में आदिवासी गणगौर मेला आज से

दैनिक भास्कर
 
बाली | बालीब्लॉक के आदिवासी अंचल का प्राचीन आदिवासी दो दिवसीय गणगौर मेला शुक्रवार एवं शनिवार को आदिवासी बाहुल्य ग्राम पंचायत गोरिया में आयोजित होगा। मेले में ऊर्जा राज्यमंत्री पुष्पेंद्रसिंह राणावत, प्रधान कपूराराम मेघवाल, एसडीएम सुरेश कुमार, विकास अधिकारी विक्रमसिंह राजपुरोहित आदि मौजूद थे। पूर्व प्रधान सामताराम गरासिया, पूर्व सरपंच किशनाराम गरासिया भाग लेंगे। ग्राम पंचायत गोरिया सरपंच बबलीदेवी गरासिया ने बताया कि हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी दो दिवसीय आदिवासी गणगौर मेला गोरिया में शुक्रवार एवं शनिवार को आयोजित होगा। मेले में विभिन्न ...





1 comment: